बोला पुंडलिक वरदे, हरि विठ्ठल ! श्री ज्ञानदेव, तुकारामपंढरीनाथ महाराज की जय !